AVS

Astrologer,Numerologer,Vastushastri

Jyotish shastra Jyotish vigyan indian astrology


Jyotish shastra,Jyotish vigyan, indian astrology




Jyotish shastra से हम किन बातों का विचार करते हैं-


Jyotish shastra,Jyotish vigyan, indian astrology से जातक के जमीन जायदाद, परिवार, व्यक्तित्व, उसके विचार, उसके धन एवं संपत्ति, उसकी एजुकेशन, उसका धैर्य, उसका ज्ञान और व्यापार या नौकरी जो वह करना चाहे इन सभी विषयों पर हम संपूर्ण रूप से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ज्योतिष से भूतवर्तमान और भविष्य इन तीनों का सटीक वर्णन मिल सकता है एक उच्च श्रेणी का ज्योतिष इन सभी बातों पर आपकी मदद कर सकता है



नमस्कार दोस्तों स्वागत है आप सबका हमारे ज्योतिष ज्ञान के इस पेज में, चलिए शुरू करते हैं आज जिन प्रश्नों का answer इस पेज में मिलेंगे वह हैं; ज्योतिष से हम क्या लाभ ले सकते हैं? हमें ज्योतिष की जरूरत क्यों पड़ती हैज्योतिष से हम किन बातों का विचार करते हैं ? प्रारब्ध क्या होता है?

Jyotish shastra Jyotish vigyan  indian astrology
 Jyotish shastra Jyotish vigyan indian astrology

Jyotish का महत्व, significance of jyotish

जब  जातक का जन्म होता है तो Jyotish shastra,Jyotish vigyan, indian astrology के अनुसार जन्म प्राप्त करने पर उसे पूर्व जन्मों में किया हुआ कार्य का फल भी इस जन्म में भोगना पड़ता है जिसे हम प्रारब्ध कहते हैं अतः प्रारब्धवश प्राप्त होने वाले जीवन के सभी सुख-दुख आशा-निराशा का सफलतापूर्वक निवारण एवं भोग को ज्योतिष के माध्यम से आसानी से समझा जा सकता है इसका विस्तार से वर्णन भी उपलब्ध है, ज्योतिष एक दृष्टि है, जो ऋषि-मुनियों ने हमें प्रदान किया है जिसके माध्यम से हम अनेक प्रश्नों के उत्तर प्राप्त कर सकते हैं जो पूर्ण रूप से विज्ञान पर आधारित है, इसे और अच्छे से समझने के लिए हमें (खगोल विज्ञान)  astronomy को समझना होगा तो इस पर हम आगे बात करेंगे। 

प्रारब्ध क्या होता है

बालक के जन्म लेने से पहले ही  माता पिता उस बालक के लिए सपने जगाने लगते हैं अनेकों विचार उनके मन में आने लगते हैं कि बड़ा होकर उनका बालक क्या करेगा, कैसा दिखेगा, और वह डॉक्टर बनेगा, इंजीनियर बनेगा, वकील बनेगा या फिर एक सफल व्यवसाई बनेगा। अगर बात की जाए हमारे देश की तो यहां पर बालक के पैदा होते ही मां बाप अपनी सोच उस पर थोपना शुरू कर देते हैं। किंतु क्या वे इसमें कामयाब होते हैं तो जवाब आएगा नहीं, उसका कारण उस बच्चे का प्रारब्ध होता है बच्चे के जन्म समय बनने वाले ग्रहों की स्थिति परिस्थिति इस बात का निर्णय करती है कि वह बच्चा आगे चलकर क्या करने वाला है वह कौन सा कैरियर चुनेगा और किस कैरियर में वह कामयाब हो सकता है।
अब वह जिस फील्ड को चुनेगा उसकी शिक्षा उसके कार्य और मां बाप की मर्जी भी उसके ग्रहों के अनुसार यदि है तो वह अपने जीवन में ऊंची तरक्की प्राप्त कर सकता है Jyotish shastra,Jyotish vigyan, indian astrology के अनुसार यदि बालक अपने ग्रहों के स्थिति के अनुसार अपने कार्य का चुनाव करता है तो वह अपने कार्य में बहुत अधिक सफल हो सकता है किंतु यदि वह ऐसे कार्यों का चुनाव करता है जहां उसके ग्रह नक्षत्र उसका साथ नहीं दे रहे हैं तो वह असफलता को प्राप्त करेगा। ठीक उसी प्रकार से जैसे नदी में धार के साथ तॆरने पर कम मेहनत पर व्यक्ति अधिक आगे बढ़ता है और धार के विपरीत तॆरने पर व्यक्ति अधिक मेहनत पर भी आगे नहीं बढ़ पाता है। इसलिए दोस्तों यदि अधिक कामयाब होना चाहते हैं तो सही समय पर ज्योतिष  की हेल्प अवश्य लें।

Jyotish और सफलता


यदि आप सफल होना चाहते हैं तो आप की शिक्षा भी उसी क्षेत्र में होनी चाहिए जहां पर आने वाले दिनों में आप सफलता के झंडे लगा सके, तो इसके लिए शिक्षा के साथ-साथ आपको Jyotish का भी साथ लेना पड़ेगा क्योंकि शिक्षा के बिना कैरियर को सफल बना पाना मुश्किल कार्य है। इसलिए अपने अंदर एक स्किल (skill) को डेवलप करिए जिस क्षेत्र में आप सफल होना चाहते हैं। 

दोस्तों उम्मीद करता हूं कि आज आपको Jyotish की थोड़ी सी अहमियत बता पाने में मैं कामयाब रहा हूं, यदि आपके कोई सुझाव हो तो हमें अवश्य बताएं, और हां यदि आपके सुझाव हमें प्राप्त होंगे तो हमें अत्यधिक प्रसन्नता होगी इसलिए Contact पर जाकर हमें मैसेज जरूर करें, उससे  हमारा प्रोत्साहन बढ़ेगा और हम Jyotish के विषय में और वास्तु के विषय में और भी अधिक से अधिक जानकारी आपके साथ शेयर करेंगे जो हमें हमारे गुरुओं से प्राप्त हुई है     धन्यवाद

https://www.astrovastusarvesh.com/2019/07/astronomy-zodiac.html

https://www.astrovastusarvesh.com/2019/07/Bedroom-vastu-tips-hindi-9-point-attached-bathroom.html

SHARE

Sarvesh Astrologer Vastushastri

Astro Vastu Sarvesh (AVS) का उद्देश्य लगो की जनम कुंडली से निकलने वाली ऊर्जा और उस व्यक्ति के मकान से निकलने वाली ऊर्जा के बीच तालमेल बैठाना ही है, ताकि वो व्यक्ति मकान के बजाय "सुख और समृद्ध घर" मे रहे। इंसान के सोच से कर्म का निर्माण होता है, और कर्म से ही भाग्य का निर्माण होता है, AVS आपके कर्म को जागृत करते है और आप अपने भाग्य को।

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

6 comments:

  1. On the off chance that you are not a medical specialist by calling, you should plan well and read writing, counsel medical specialists, accumulate data from the Internet, partake in discussions, gatherings, participation destinations and so forth. free tarot

    ReplyDelete
  2. Excellent article. Very interesting to read. I really love to read such a nice article. Thanks! keep rocking. best telescope to view planets and galaxies

    ReplyDelete
  3. We have sell some products of different custom boxes.it is very useful and very low price please visits this site thanks and please share this post with your friends. Carta Astral

    ReplyDelete
  4. I admire this article for the well-researched content and excellent wording. I got so involved in this material that I couldn’t stop reading. I am impressed with your work and skill. Thank you so much. Vastu

    ReplyDelete
  5. The faith in astrology is that the places of certain heavenly bodies either impact or connect with a people character characteristic. Before, those considering Astrology utilized perception of heavenly articles and the graphing of their developments. https://sites.google.com/view/everythingaboutaquarius/

    ReplyDelete
  6. Now, after a period of more than 15 years, I recollect all these details and still do not find any answer to this mysterious astrology ! online nadi astrology

    ReplyDelete