AVS

Astrologer,Numerologer,Vastushastri

gemini ascendant in hindi | mithun lagna ya rashi 6 point | avs


gemini ascendant in hindi | mithun lagna ya rashi 6 point | avs


नमस्कार दोस्तो astro vastu sarvesh (AVS) के इस पेज मे आज बात करेंगे Gemini मिथुन लग्न के जातकों के लिए जी हां दोस्तों जिसके स्वामी होते हैं बुध ग्रह और जो राशि है वायु तत्व की, दोस्तों यह राशि वायु तत्व की है और इसका नेचर द्विस्वभाव (Duel) होता है अर्थात  द्वी स्वभाव राशि के यह जातक होते हैं।इस लिए इसको समझ पाना हर किसी के बस की बात नहीं।

gemini-ascendant-hindi-mithun-lagna-rashi-6-point-avs
gemini ascendant in hindi | mithun lagna ya rashi 6 point | avs

शारीरिक बनावट और व्यवहार

AVS के अनुसार Gemini मिथुन राशि के जातक कद काठी से यह लंबे होते हैं इनका शरीर थोड़ा दुर्बल होता है हाथ और पैर शरीर की अपेक्षा थोड़ा लंबे होते हैं, इनका रंग गेहुआ  हो सकता है।  बचपन में यह बहुत उधम्मी बच्चे होते हैं, तेजतर्रार होते हैं, बाल इनके थोड़ा घुंघराले हो सकते हैं, ऐसे जातक थोड़ा असमंजस में ही रहते हैं और इनकी चाल थोड़ा तेज होती है।  यदि लग्नेश की स्थिति अच्छी है तो यह शब्दों के ज्ञाता होते हैं चुस्त चालाक होते हैं इन पर ये कहावत एक दम सही बैठती है ये गंजे को भी कंघी बेच सकते है  किंतु मन इनका दुविधा ग्रस्त ही होता है।  किसी भी विषय में प्रवीणता प्राप्त करना इनका शौक होता है।  अधिकतर विषयों को जान लेना इनकी इच्छा में होता है।  इनमें एक खास गुण होता है जिससे इनके विचारों में नवीनता दिखती है जी हां दोस्तों यह खूबी इन्हीं जातकों के पास होती है अगर कोई कार्य इन्हें ना समझ में आए तो उसका क्षेत्र बहुत जल्द बदल लेते हैं, कभी कभी निर्णय ले पाने की वजह से ये कार्य को कर ही नहीं पाते और वक्त निकाल जाता है  

गहराई पसंद

 जी हाँ दोस्तो Gemini मिथुन राशि के जातक किसी भी विषय की गहराई में जाकर ज्ञान को प्राप्त करने पर विश्वास रखते हैं, सुनी सुनाई बातों पर विश्वास करने के बजाय यह उसका अनुभव करके तब उस पर भरोसा करना उचित समझते हैं, परिस्थिति के अनुसार अपने आप को ढाल लेने में यह बखूबी सक्षम होते हैं, किंतु जब निर्णय लेने की बारी आती है तो इनके अंदर मंथन की प्रक्रिया बहुत अधिक देर तक चलती है जिससे इनके निर्णय अक्सर देरी आती हैं AVS के अनुसार यदि इनके लग्नेश की स्थिति ठीक हो तो ये समस्या नहीं होती परंतु जिनमे होती भी है वो छोटे छोटे कुछ उपाय कर के अपनी ये समस्या को ठीक कर सकते है

मिथुन राशि को लाभ या हानि

AVS के अनुसार व्यापार हो या नौकरी हो Gemini मिथुन राशि के जातक एक कार्य को करते हुए इन्हें संतुष्टि नहीं प्राप्त होती और यह दूसरे कार्य को करने  के प्रयास में हमेशा रहते हैं, चाहे वह दूसरे कार्य को पहले कार्य के साथ कर पाए या कर पाए, प्रयास जरूर करेंगे।  यदि बुध पर पाप प्रभाव हो तो उन्हें व्यवसाय या नौकरी में नुकसान भी उठाना पड़ सकता है, क्योंकि दो नवो पर पैर रखने वाला व्यक्ति दोनों नाव को नहीं संभाल पाता ऐसी स्थिति में उसे नुकसान उठाना पड़ता है, यदि बुध की स्थिति अच्छी हो तो ऐसे जातक दो कार्यों को भी बड़े आराम से और सुचारू रूप से अंजाम दे सकते हैं AVS के अनुसार इनके अंदर समझने की शक्ति बहुत अधिक होती है अतः ये  किसी भी कार्य को तुरंत समझ जाते हैं और उसका विश्लेषण करके उसे बखूबी अंजाम देते हैं और यदि बुध की स्थिति खराब हो तो हमेशा कन्फ्युज ही रहते है।

कौनसा  कार्य इनके लिए उचित है

 AVS के अनुसार Gemini मिथुन राशि के जातक स्वभाव से यह चंचल जरूर होते हैं अपने मस्तिष्क पर इन्हें पूरा भरोसा होता है चाहे बुध अच्छा हो या खराब अपने मस्तिष्क द्वारा तुरंत कार्य करने की शक्ति रखते हैं ऐसे जातक सदैव नई नई चीजों पर मंथन करते हैं और उसे जानने के लिए उत्सुक रहते हैं।  ऐसे जातकों के लिए शोध कार्य, संपादक, पत्रकार, परिवहन, वाणिज्य, गणित, अध्यापन, प्रवक्ता, व्यापारी, दलाल, आदि कार्य बहुत उत्तम होते हैं

पारिवारिक संबंध

 ऐसे जातक पति या पत्नी के रूप में होते तो अच्छे हैं किंतु किसी के हिसाब से इन्हें रहना पसंद नहीं होता।  स्वतंत्र विचारधारा रखते हैं, इनकी स्मरण शक्ति बहुत अच्छी होती है, धर्म में पूरा विश्वास रखते हैं, लेकिन भाग्य पर जरूरत से ज्यादा भरोसा करते हैं, कर्म को जानते समझते हैं किंतु, भाग्य के सहारे भी रहना इनकी आदत होती है किंतु बुद्ध पर शुभ ग्रहों की दृष्टि हो तो ऐसे जातक कर्म के प्रेमी होते हैं, और कर्म पर ही विश्वास रखते हैं।  

मिथुन राशि के मित्र अधिक

मिथुन लग्न के जातक मित्र बनाने में बहुत तेज होते हैं इसलिए इनके मित्र अधिक होते हैं।  यदि लग्न पर पाप प्रभाव हो तो इनके मित्र नीची जाती या लोफ़र किस्म  के होते है। किंतु यदि शुभ दृष्टि हो तो इनके मित्र दुख में सुख में हर समय इनके साथ खड़े होते हैं और सदैव अच्छी सलाह देने वाले होते हैं।  

मिथुन राशि के गुण धर्म

मिथुन राशि के वर्ण हरा होता है शूद्र जाति के होते हैं जिनका स्वभाव कुछ क्रूरता लिए हुए होता है, तत्व इन का वायु होता है, सतोगुण के होते हैं, विषम राशि है, दिशा इनकी पश्चिम होती है, इनके लिए शुभ रत्न पन्ना होता है, वृष राशि की तरह मिथुन राशि भी रात्रि बली होते हैं, इनकी प्रकृति भी वात प्रकृति के ही होते हैं स्वभाव इन का चंचल होता है।

                    दोस्तों सागर में गागर भरने जितना जानकारी मैंने आप सबके सम्मुख रखी है अतः उम्मीद करता हूं कि आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी इसके विषय में अपने सुझाव हमें अवश्य लिखें। coment  कमेंट बॉक्स कमेंट करें और पेज को सब्सक्राइब जरूर करें यदि आप हमसे संपर्क करना चाहते हैं तो कांटेक्ट बॉक्स पर हमसे कांटेक्ट करें।  आपके सुझाव हमारे लिए अमूल्य होंगे फिर मिलते हैं एक नई जानकारी के साथ तब तक के लिए धन्यवाद।
astro vastu sarvesh (AVS) 
SHARE

Sarvesh Astrologer Vastushastri

Astro Vastu Sarvesh (AVS) का उद्देश्य लगो की जनम कुंडली से निकलने वाली ऊर्जा और उस व्यक्ति के मकान से निकलने वाली ऊर्जा के बीच तालमेल बैठाना ही है, ताकि वो व्यक्ति मकान के बजाय "सुख और समृद्ध घर" मे रहे। इंसान के सोच से कर्म का निर्माण होता है, और कर्म से ही भाग्य का निर्माण होता है, AVS आपके कर्म को जागृत करते है और आप अपने भाग्य को।

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

2 comments: