AVS

Astrologer,Numerologer,Vastushastri

best profession for virgo|कन्या राशि के उचित कार्य|astrologer sarvesh|sarvesh kesarwani|#prayagraj astrologer

कन्या राशि के उचित कार्य 

कही आप कन्या राशि के तो नहीं या फिर आपका लग्न कन्या या वर्गो तो नहीं यदि है तो ये ब्लॉग है आपके लिए। नमस्कार मित्रों में सर्वेश केसरवानी आप सभी का इस हिन्दी ब्लॉग में स्वागत करता हूं आज के इस ब्लॉग मे हम बात करेंगे कि कन्या राशि या कन्या लग्न के लोगो को अपना खुद का, किस तरह का व्यापार करना चाहिए या फिर कौन से क्षेत्र मे नौकरी का प्रयास करना चाहिए सवाल छोटा सा है पर जवाब काफी कोंपलीकेटेड (Complicated) है तो आइए जानते हैं कि कन्या राशि के लोगों की कुछ ऐसी अच्छाइयां जो वो भी भली भाती नहीं जानते होंगे और जिन्हें समझ करके जान करके वह इसका बहुत अच्छा प्रयोग भी कर सकते हैं और अपने जीवन के स्तर को ऊंचा भी कर सकते हैं और बढ़ा भी सकते हैं मित्रों यदि आप इसकी विडियो देखना चाहते है तो ये विडियो के रूप मे भी आपकी सहूलियत को देखते हुए यूट्यूब मे उपलब्ध है जैसा लिंक नीचे है

   

  सबसे पहले ये जान लेते है के जिन लोगो को ये नहीं पता की उनकी राशि या लग्न क्या है तो एक नजर इस पर डालते है मित्रों यदि आपके बर्थ चार्ट के फ़र्स्ट हाउस मे 6 नंबर लिखा हो या फिर पूरे चार्ट मे जहां भी 6 नंबर लिखा हो वही पर चंद्रमा या मून स्थित हो तो ही ये ब्लॉग आपके लिए है एकदम खास।-

कन्या राशि के तत्व -

 कन्या राशि अर्थ त्रिकोण की दूसरी राशि होने के साथ साथ ये एक पृथ्वी तत्व की भी राशि होती है मित्रो किसी भी व्यक्ति के तत्व को जान कर उसके गुणो को बढ़ाया भी जा सकता है और उसकी निगेटिविटी को कम भी किया जा सकता है कन्या राशि का तत्व भी पृथ्वी तत्व है इस लिए ये एक अत्यंत बुद्धिजीवी होते है इसके लिए अपनी नौकरी , अपने व्यापार और सदैव अपनी प्लानिंग के साथ अपने काम को अंजाम देते है यदि कन्या राशि पर शुभ प्रभाव हो तो ये प्रसन्न रहने वाले होते है और जो इनके संपर्क मे आता अपने अंदाज़ से उनको भी प्रसन्न करने की क्षमता रखते है अपनी बुद्धि और अचूक विश्लेषण करने की क्षमता के कारण ये सदा एक कदम आगे रहते है। 

कन्या राशि पर जब समस्या हो तो -

पर यदि कन्या राशि पर अशुभ प्रभाव पड़ जाए तो एक बड़ी समस्या से ये परेशान हो जाते है और एक अनिश्चितता और आत्म विश्वास की कमी का वातावरण अपने इर्द गिर्द निर्मित कर लेते है और अपने आस पास भी एक निगेटिव अटमस्फ़ियर बना लेते है जिससे लोग इनसे दूरी बना लेते है और इसी कारण इंनके प्रोफेशन पर भी बुरा असर पड़ने लगता है पर हर क्षेत्र के प्रोफेसन मे ये अपना जौहर दिखा ते ही रहते है अब चूंकि ये सभी काम को सोच विचार के करते हैं इसलिए इनके लिए कुछ खास काम प्रकृति ने उनके सुपुर्द किए हैं जैसे कानून से जुड़ी नौकरी या इससे जुड़ा व्यापार प्रकरती ने कन्या राशि के लोगो को ही सौपा है। पर क्या इन्होंने बेसिक शिक्षा या अपना स्किल उसी क्षेत्र में डिवेलप किया है जिस क्षेत्र का ये प्रोफेशन करना चाहते है यदि हां तो फिर सोने पर सुहागा और यदि ना तो फिर प्रॉब्लम हो सकती है 

कन्या राशि के उचित कार्य के लिए कौन कौन से हाउस महत्वपूर्ण होते है -

किन्तु  नौकरी हो या व्यापार हो अपने स्किल को जरूर देख ले इसके लिए अपने सेकंड हाउस की स्टडी जरूर करें या फिर करवा ले।क्यू की आपने अपने जीवन के अभी तक के समय मे जिन भी चीजों को आक्युमुलेट या संग्रह किया है उसकी डिटेलिंग आपको इसी हाउस से मिलेगी। इसके बाद थर्ड हाउस पर भी जरूर ध्यान दें क्योंकि यह आपके इंटरेस्ट को बताता है आपकी इच्छा शक्ति को बताता है काम करने कि आपके यूनिक तरीके को बताता है इसके गड़बड़ होने से आपका पूरा बर्थ चार्ट डिस्टर्ब हो सकता है इसका कारण मै पहले भी बता चुका हूँ कि यह आपके पार्टनर का भाग्य स्थान भी होता है तो इसे नजर अंदाज़ बिलकुल न करे । इसके बाद सबसे इंपोर्टेन्त हाउस 10th हाउस होता है जी हाँ मित्रो इस हाउस को भी ध्यान से देखने की जरूरत होगी क्यो के अपने स्वतंत्र काम से नेम फेम पोजीशन 10th हाउस से ही संभव है

 दोस्तों सागर में गागर भरने जितना जानकारी मैंने आप सबके सम्मुख रखी है अतः उम्मीद करता हूं कि आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी इसके विषय में अपने सुझाव हमें अवश्य लिखें।कमेंट बॉक्स कमेंट करें और पेज को सब्सक्राइब जरूर करें यदि आप हमसे संपर्क करना चाहते हैं तो कांटेक्ट बॉक्स पर हमसे कांटेक्ट करें। आपके सुझाव हमारे लिए अमूल्य होंगे फिर मिलते हैं एक नई जानकारी के साथ तब तक के लिए धन्यवाद। ।

SHARE

Sarvesh Astrologer Vastushastri

Astro Vastu Sarvesh (AVS) का उद्देश्य लगो की जनम कुंडली से निकलने वाली ऊर्जा और उस व्यक्ति के मकान से निकलने वाली ऊर्जा के बीच तालमेल बैठाना ही है, ताकि वो व्यक्ति मकान के बजाय "सुख और समृद्ध घर" मे रहे। इंसान के सोच से कर्म का निर्माण होता है, और कर्म से ही भाग्य का निर्माण होता है, AVS आपके कर्म को जागृत करते है और आप अपने भाग्य को।

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment